Vashikaran Simple Method - An Overview +91-9914666697




The younger son is weak, sensual, and simply distracted; he will develop into the brainwashed tool of a religious sect whose goal should be to unseat the Caliph along with the political/intellectual institution, and set up the rule of fundamentalism and spiritual purity. For sure, Averroës would be the object of their most rigorous animosity, plus the Caliph are going to be unable to protect him from their schemes.

Pretty much concurrently, however, his writings passed into Christian Europe, where they have been translated into Latin and served to re-introduce the scholarship of The traditional Greeks and Roman writers on the West. The affect of his writings on Medieval believed might be incalculable.

– डा एस डी कुलकर्णी कृत एन्कांउटर विद इस्लाम पृष्ठ २६७-२६८

“वे पूछते हैं कि उनके लिए वैध क्या है , तो कह दो ,कि जानवरों को तुमने प्रशिक्षित किया है , वे शिकार को पकडे रहें ,और तुम उसे खा जाओ , अल्लाह जल्द हिसाब करने वाला है “

Fatwa – In Islamic religion, Fatwa is usually a lawful viewpoint or juristic ruling that's binding for Shia Muslims and non binding for Sunni Muslims, The fatwa is issued by certified muslim scholars commonly generally known as Mufti. Every region has its Mufti. Although lots of assert that a fatwa is non-binding and consequently not incredibly related in political scheme of things, You can find a lot of muslims who acquire Fatwas severely and cite them in areas of daily life.

इस्लाम की मान्यताएं अन्तर्विरोध से भरी पड़ हैं .फिर भी इन मान्यताओं के आधार पर इस्लाम सभी गैर मुस्लिमों को पापी और अपराधी मानकर क़त्ल के योग्य समझता है .क्योंकि इस्लाम की नजर में ,हत्या ,बलात्कार , चोरी , जनसंहार जैसे अपराध छोटे और क्षमा योग्य है . परन्तु “ शिर्क ” को सबसे बड़ा और ऐसा अपराध माना गया है ,जिसे कभी माफ़ नहीं किया जा सकता है .

न्यायोचित धार्मिक अधिकारोंके लिए संघर्ष करनेवाले हिंदुओंपर किए गए अगणित अत्याचार !

शिर्डी साईं का सनातन धर्म को समाप्त करने का एक षड्यंत्र

- बाद में रोटी को कुत्ते को खिला दें अथवा बहते पानी में बहा दें।

इस मजहब में अल्लाह और रसूल के वास्ते संसार को लुटवाना और लूट के माल में खुदा को हिस्सेदार बनाना शबाब का काम हैं । जो मुसलमान नहीं बनते उन लोगों को मारना और बदले में बहिश्त को पाना आदि पक्षपात की बातें ईश्वर की नहीं हो सकती । श्रेष्ठ गैर मुसलमानों से शत्रुता और दुष्ट मुसलमानों से मित्रता , जन्नत में अनेक औरतों और लौंडे होना आदि निन्दित उपदेश कुएं में डालने योग्य हैं । अनेक स्त्रियों को रखने वाले मुहम्मद साहब निर्दयी , राक्षस व विषयासक्त मनुष्य थें , एवं इस्लाम से अधिक अशांति फैलाने वाला दुष्ट मत दसरा और कोई नहीं इस वशीकरण से जिस लड़की को चाहोगे वो खींची चली आएगी । इस्लाम मत की मुख्य पुस्तक कुरान पर हमारा यह लेख हठ , दुराग्रह , ईर्ष्या विवाद और विरोध घटाने के लिए लिखा गया , न कि इसको बढ़ाने के लिए । सब सज्जनों के सामन रखने का उद्देश्य अच्छाई को ग्रहण करना और बुराई को त्यागना है ।।

शहर के परले पार बेर के पेड़ के पास ,जन्नत के बिलकुल पास , जब बेर पर कुछ छाया सी पड़ी तो मैनें अल्लाह की निशानियाँ देखीं “

वह कैसा युग था इसको व्यक्त करने के लिये अनेक उदाहरण दिये जा सकते हैं जिससे प्रमाणित होता है कि तमाम प्रगतिशील तत्त्वों के साथ हिन्दी में ब्राह्मणवादी सोच प्रभावी रूप से उपस्थित था.

इस देश को हमारे ही कारण हिन्दुस्थान नाम दिया गया है

पितृभू-पुण्यभू भुश्चेव सा वै हिंदू रीती स्मृता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *